Thursday, 20 August 2009

पॉवर का चक्कर

एक शहर से दूसरे शहर। लंबा रास्ता। सैकड़ो गाँव। बिजली की समस्या। खेतों में पानी देने के लिए बिजली नहीं। बर्बाद होती फसल।
सड़क जाम। गाड़ियों की लम्बी लाइन। दोनों तरफ़ खेत, गाँव।
"क्या हुआ भाई, जाम क्यों लगा हुआ है।"
"कुछ नहीं साहब, सामने के गाँव में एक लड़के की मौत हो गई है। लोग रोड जाम करके हर्जाना मांग रहे हैं।"
"मौत! ओह हो! यह कैसे हुआ।"
"साहब बेचारे को बिजली का करंट लग गया।"

बिजली (पॉवर) का चक्कर, न मिले तो मौत, मिले तो मौत।

No comments:

Post a Comment