Wednesday, 9 December 2009

दहेज़ मर्दों के लिए परेशानी

हमारे इलाके में यदि आप लड़की के पिता हैं तो उसके पैदा होते ही आपकी चिंता शुरू हो जाती है। पैसे जोड़ना शुरू कर दिया जाता है। सामन संजोये जाते हैं।
यदि आप अपनी लड़की के लिए अच्छा लड़का चाहते हैं तो आपको उसके लिए अच्छी पेमेंट करने के लिए तैयार रहना चाहिए। अगर आप ऐसा कर सकते हैं तो जैसा चाहें लड़का आपका दामाद बन सकता है।

ये तो साहब पेमेंट की बात थी।
ज़माना बदल रहा है। आज कल पढ़ी लिखी, आउटगोइंग लडकिया होती हैं। तो साहब अगर आपकी लड़की इस तरह की है और आपके पास माल भी है तब तो बेस्ट डील मिल सकती है।
तो आज कल की एवेलेवल लड़कियों और उनके लिए ढूंढें जा रहे लड़कों की थोड़ी जानकारी देन आपको:
1. थोड़ी पढ़ी लिखी लड़की। पैसे वाला बाप:
बढ़िया इंजिनियर, डॉक्टर या ऍम बी ए लड़का ढूंढेंगे और बस पेमेंट कर देंगे।
2. बढ़िया पढ़ी लिखी समझदार लड़की, ठीक ठाक पैसे वाला बाप:
और बेहतर लड़का ढूंढेंगे। काबिल लड़की और पैसे का मिश्रण कर के फाइनल।

अब सिचुएसन यह है कि बेचारा रमेश एक नारमल सा इंजिनियर है और बढ़िया पढ़ी लिखी लड़की चाहता है।
उसके पास पैसे वाले बाप अपनी लड़की के लिए उसको खरीदने आ रहे हैं और जो पढ़े लिखे केंडिडेट हैं उनका दिमाग चढ़ा हुआ है (पढ़ाई + पैसा)। रमेश को दहेज़ से मतलब नहीं है लेकिन लड़की के पिता को तो है।

तो कैसे होगी रमेश कि शादी? जो दहीज़ (पेमेंट पर जैसा चाहें लड़का खरीद सकें) प्रथा लड़कियों के लिए अभिशाप थी, क्या आज एक नारमल लडको को बढ़िया लड़की से शादी करने का हक़ खोना पड़ेगा?
शायद हाँ।

तो हमारे इलाके में आप अगर एक नारमल लड़के के पिता हैं तो आपकी चिंता शुरू हो गई है।

No comments:

Post a Comment