Saturday, 13 February 2010

साधन (रिसोर्स)

क्या आप एक बहुराष्ट्रिये कम्पनी में काम करते हैं?
क्या आपकी नए ज़माने की नयी नौकरी है?
क्या आप निचले या माध्यम दर्जे पर के कर्मचारी हैं?

अगर इन सब का जवाब हाँ है तो आप इंसान नहीं हैं।

आप सिर्फ एक नाम हैं।
आप सिर्फ एक कर्मचारी नंबर हैं।
आप सिर्फ एक संसाधन हैं। (रिसोर्स)

क्या आपकी जिंदगी में कुछ लक्ष्य हैं?
क्या आपने अपना व्यावसायिक जीवन का प्लान बना रखा है?

तो में ज़रा हंस लेता हूँ आप पर........और खुद पर।

याद रखिये आप एक रिसोर्स हैं। एक संसाधन।
और हर रिसोर्स का एक यूज़र होता है। संसाधन को इस्तेमाल करने वाला।
और वो हैं आपके ऊपर काम करने वाले। आपके सरकार। आपके बॉस।

जब आप इस कॉरपोरेट दुनिया के एक प्यादे हैं तो आपके लक्ष्य क्या होंगे वो फैसला सरकार का होगा।
आपके लिए कौन सा काम ज़रूरी है ये सरकार राज तै करेगी। आपके व्यावसायिक जीवन का प्लान सरकार बनाएगी।
क्योंकि आप एक रिसोर्स हैं। और रिसोर्स का यूज़ कैसे होना है ये तो यूज़र (सरकार) फैसला करेगी।

तो मेरे साथी रिसोर्सों जागो और यूज़र बनने की कोशिश करो।

No comments:

Post a Comment