Saturday, 31 December 2011

सावधान: आपका फेसबुक प्रोफ़ाइल आपसे भेद भाव का कारण बन सकता है

चेतावनी: इस लेख में फेसबुकिया भाषा का प्रयोग हो सकता है। अगर समझने में कठनाई हो तो कृपया लेखक से संपर्क करें

जी, हैरान न हों...... आज कल सब कुछ फेसबुक पर होता है। प्यार, तकरार, संवाद, विवाद, निकाह, तलाक........ सब फेसबुक पर। अजीब सी दुनिया है ये, किसी ने दुख भरा संवाद भी लिखा तो लोग उसे 'पसंद' (लाइक) कर देते हैं। अरे भी दुख को पसंद करने की क्या बात है? लेकिन हाँ फेसबुक वालों ने 'नालायक' (डिस लाइक) का बटन बनाया ही नहीं, हैरानी की बात है।

खैर, जब सब कुछ फेसबुक पर हो रहा है तो भेद भाव क्यों नहीं? किस्सा कुछ दिन पहले का है। हमारे एक मित्र (फ्रेंड) ने अपने फेसबुक पर 'दशा नवीकरण' (स्टेटस अपडेट) किया। भारत के हर एक नागरिक की हरह, उनके अपडेट भी आज कल सिर्फ भ्रस्टाचार, अन्न हज़ारे और काँग्रेस के बारे में रहे हैं। ये भी कुछ इसी विषय पर था। मस्तिस्क टटोलने पर याद आता है की शायद उन्होने अन्न जी के तरीकों की कुछ भत्सना की थी।
खैर उनके इस अपडेट पर हमारे एक अन्य मित्र ने 'टिपन्नी' (कमेंट) किया अपना विरोध प्रदर्शिस्त करने के लिए।
तत्पश्चात, हुमारे पहले 'मित्र के एक मित्र' (फ्रेंड ऑफ फ्रेंड) ने हमारे दूसरे मित्र को संबोधित करते हुए 'टिप्पणी' की......

"मैंने सोचा शायद आप इस विषय के बारे में ज्ञान रखते हैं इसलिए टिप्पणी कर रहे हैं। परंतु आपका फेसबुक 'वर्णन' (प्रोफाइल) देखने से पता चलता है आपको आपको कॉमिक्स पसंद हैं और कुमार शानू अच्छे लगते हैं। कहने का तात्पर्य ये है कि आपकी प्रोफाइल कि किसी चीज़ से ये नहीं पता चलता है कि आप जिस विषय पर चर्चा कर रहे उसका आपका ज्ञान है।"

अब मेरा सवाल ये है कि ये मेरे दोस्त के दोस्त (फ्रेंड ऑफ़ फ्रेंड) कैसे परख रहे हैं मेरे मित्र को उसके प्रोफाइल के माध्यम से? अगर उसने अपने प्रोफाइल में बड़ी बड़ी बातें नहीं लिखीं हैं तो क्या उसे इस विषय पर विचार रखने का हक़ नहीं है? क्या हर विषय, जिसपर आप अपने विचार प्रकट करें, उसे अपने फेसबुक प्रोफ़ाइल में लिखना ज़रूरी है? और हाँ, क्या कॉमिक्स और कुमार शानू को पसंद करने वाला व्यक्ति गंभीर मुद्दों का ज्ञान नहीं रख सकता, उनपर विचार नहीं कर सकता, उनपर अपना मत नहीं रख सकता? कुमार शानू एक बड़े उत्तम किस्म के गायक हैं और कई बार उन्होने फिल्मफेर पुरस्कार भी जीता है। और हाँ, मुझे याद है कि मेरी कक्षा के सारे उत्तम विद्यार्थी कॉमिक्स के दीवाने हुआ करते थे, कई अभी भी हैं।
कैसा भेद भाव है ये भाई?

इस प्रकार के निजी प्रहार और भेदभाव का क्या लाभ? कम से कम फेसबुक जैसी पाक जगह पर तो ये सब न हो।
खैर, आपके लिए हिदायत ये है कि आप अपने प्रोफ़ाइल को सम्पूर्ण रखें और ध्यान रखें कहीं कोई ऐसा भेदभाव आपके साथ न करे.........

नव वर्ष कि सुभकामनाएं......

Monday, 7 November 2011

sometimes there is smoke without fire

Did I tell you about the fire alarm and the fire drill a couple of weeks earlier? Ya, I did.

Well, it happened again. Only that it was for real this time.
My night was going like a wave. I would fall into troughs of sleep and suddenly a crest would wake me up and I would shift in my bed and fall into a brief trough again. 1:30 am. I the crest had just hit me and I heard voices in the room besides me and then the corridor. And then it happened, giiiiiiiiirrrrrrrrrrrrr. Yes it was the fire alarm. That was the biggest trough to hit me last night. I quickly jumped out of my bed and ran out of my room only to see a kitchen full of smoke. In the kitchen was Shaily, my flatmate trying to wash her pans. Still drowsy, I was not able to make out if the smoke in our kitchen was just a coincidence or the trigger.

Anyway, I asked Shaily to come out of the Kitchen, grabbed my jacket and out we went, to join rest of the Kirknewton crowd at the fire assembly point. The temperature outside was around 2 degrees and there were people without warm cloths, in shorts, some wrapped in duvet. Then I saw Chang (another flatmate) and asked about my doubts on the coincidence/trigger. Well, my fears were confirmed. The smoke in our kitchen was the trigger. Thankfully it was not a real fire. Nevertheless, chances of us getting beaten up by the whole Kirknewton next morning were high. Yes, try forcefully getting a bunch of postgraduates out in the cold at 1 in the morning. Chances are they will hate you for rest of their lives.

Well, the deed was done. The four of us, Penney, Julio, Chang and me were standing and confirming the news with each other and trying to understand how how our kitchen could have filled up with smoke at 1 am. So, heres the story.

At around 1, Chang smelled smoke in her room. As he got out she saw the kitchen filled with smoke and Shaily's pot on the cooker. He called Shaily to inform him about this. As Shaily came and stood slightly opening the kitchen door, smoke from kitchen escaped into the corridor and triggered the alarm. Apparently the alarm in the kitchen is a heat alarm and is only triggered if the heat levels exceed. However, all the other alarms in the flat are triggered by smoke.
Reason for smoke: Shaily had left eggs for boiling. Selective amnesia kicked in and she forgot the eggs. So, the eggs were on the cooker for god knows how long. The water had evaporated and of course the eggs burnt to cause all the smoke. I would't even fancy imagining the condition the pan must be in.

Somehow, god had destined our flat to cause the first real fire scare for Butler during this term. Thankfully, the security team at Butler was quick to take action and shorted everything out in quick time. What seemed to us a wait in the cold for ever was only about 20 min and we were back in our warm, cozy and smelly (because of smoke) rooms. Thanks to the Principal and the security team who stood by until the smoke cleared, no further alarms were triggered and the night passed in peace (except my personal crests and troughs).

The morning brought in the sense of winter. The ground besides my room was matted with white frost and my phone showed negative 2 temperatures. Scare and excitement filled my heart (well, I first took the frost as snow).

Hopefully we will have more snow and no alarms from now onwards.

Wednesday, 2 November 2011

Monday, 31 October 2011

don't let your degree get in the way of your learning

Since, I arrived in Durham about a month ago, I have heard this line over and over again. During the PhD induction, during international student's induction, during college induction, during department induction, during university matriculation (induction). Over and over again....

"don't let you degree come in the way of your learning"

Ya, sure. I haven't even started work on my degree properly. But of course learning is going on, full steam. I have learnt to bear the cold of North England (god save me if I visit the Scots). I have learnt to watch (well, still learning) English shows on BBC Iplayer. I have learnt to find cheep food on the various shelfs of Tesco and M&S. I have learnt to endure the crests and troughs of Durham roads (yes, it is hilly). I have learnt to eat all kind of meat (hard to find your kind on the shelves). Most importantly, I have learnt of cook noodles and pasta (thanks to Shangkari). Yes, the water you boil your pasta in should be as salty as the Mediterranean. And yes I must visit the region and sample the water to bring perfection to my pasta. But yes I have learnt to survive.

But a couple of nights ago, I found that it wasn't just me who was learning or was interested in learning. People here are embracing the international culture. At least some of them. We had a Indian dinner get together on Saturday night. Thanks for the lovely dinner Kalpana. There were Chinese, Greeks, Malaysians, British and of course Indians. The food was good and so was the company. Now, since it was Indian food, I was back to my native ways of eating. Throw away the fork, the knife and the spoon. We have hands. The Chinese were quick to notice. And what happened next was a masterclass. No no, not in cooking. But eating, Indian style.

First stage was to eat chapati and chick peas (yes the ones that look like chicks). break the chapati into 4 equal pieces (well depends how big the chapati is. it could be more pieces). Use your hands to roll the chapati around the peas in the bowl/plate. Pick the chapati up and into the mouth. Hard to explain, these are matters of practical demonstration.

The second stage was rice and yes chick peas. Mix rice and the peas with your hands in the bowl/plate. Take some of that mixture on your 4 fingers. Bring them to the mouth and push the mixture in with the thumb (of the same finger). Yes, this is technical stuff. But again matters of practical demonstration. There are some pictures of the class but have not reached to me. I will share as soon as they do.

And the last one was to eat rice pudding. This one they found hard to believe as the pudding was a little bit hot. But not so much. The process is same as rice and peas.

And then the question. So, how do you eat soup. That got me into a fix. Well, not by chopsticks of course. But yeh, we just lift the bowl, tilt it and the soup goes in.

But yes, an amazing night of cultural exchange and of course fun. Next time, chinese food and chopstick class (at least thats the hope).

Wednesday, 19 October 2011

love letter

Sun is not only a god in India, but also a nuisance. It is not only sunny for most of the year but also very hot. So, for an Indian arriving in Europe for the first time, it was strange to see people flocking public places on a sunny afternoon.

But having now stayed here for about two weeks, I have come to realise the reason behind it. It is cold, windy, rainy and sometimes sunny here. So, of course there is a high demand for the finite resource called sunlight.

Thanks to Durham, I can now appreciate the Sun and its power. It surely is a God and the ultimate source of energy.

------------------------------------------------------ X ----------------------------------------------------

Dear

I miss the warmth you gave me, for all I have around me here is darkness and chill. I couldn't value you when you were near me, just as I didn't value the Sun. Now that, you are not around and neither is the warmth of the Sun, I know what I am missing.

There are days when the Sun comes out. My body gets warm but my soul is still cold for I don't have you, the source of my energy with me.

Durham has made me realise the value of both the Sun and you for now I feel, I need both of you, more and more.

Yours

This is part of a school exercise on writing styles. The target was to write the same content in different styles viz. descriptive, travelog, drama, conversation & love letter. The paras presented above are from two of the writing styles, namely descriptive and the love letter, respectively. I will be posting the other writing styles in future posts.

Saturday, 15 October 2011

keeping on the toes

giiiiiiiiiiiiiiiirrrrrrrrrrrrrrrrrr

I suddenly woke up cursing my alarm clock for going mad. Next moment I realised, its the bloody fire alarm. I ran out of my room and started banging on other's doors. Well of course the alarm was enough to wake everyone up but just to add my nuisance (love doing that) to it, I banged on on everyone's door. So much so that I did not even leave anonymous (you may remember her from my last post, that is if you read it). Thought for 5 brief moments before banging her door but ultimately voted in favour.

And so spread the panic and everyone started running out in whatever state they were. Thankfully everyone (in our flat) was in a decent state (and in their respective rooms). Seeing Jenny, I realised that I must get my jacket and wasted another 5 panic moments on that.

All this time in the background there was a constant, non stop, giiiiiiiiiirrrrrrrrrrrrrr

And all this time I kept banging Kelley's door but no answer (later found out that Chinese are fire proof). Well, so we all, minus Kelley ran out of the flat and out of the building to the designated assembly point (on the way I even banged on Kelley's window). So, there we were, 6:55 am, out in the cold. Some with warm cloths, some without. Some even without foot wares (Julia was among them), trying to save their feet from freezing.

5 min later, it was announced that we could now go back to our rooms. Thankfully, I had no classes to attend and hence could resume my sleeping. Finally got up at 10:30 am. Damn you fire alarm.

As a background to all this, its my moral duty to inform you all that this was not a real fire situation and just a 'bloody drill'. Now, you must think that I was banging the doors of my flatmates to save them from fire. Well, not so my friends, not so. We knew that there was going to be a drill and I had the realisation all along that this giiiiiiiiiiiiiirrrrrrrrrr was part of the drill. Why the banging then? Well, I was trying to save myself. You see, it was announced earlier that if all the residents don't come out within 3 min of the fire alarm, the exercise would be repeated. And I was not at all up to going through this again. So, in order to save my self from another round of mock drill (it was my moral duty) at I don't know what time of the day/night, I had to make sure that everyone from my flat was out.

Sadly could not manage to get Kelley out (I am sure he was dreaming of Chinese invasion of India). But thankfully, others didn't find this out (of Kelley being in his room, not the dream) and we were saved the pain of another drill.

However, having said all that this was my first experience of fire drill and now I understand the process. Good for me. The giiiiiiiiiiiiiiirrrrrrrrrr shall always keep me on my toes (hope they don't start paining).

Monday, 10 October 2011

cold and spice less

28th of October 2011 is when I moved to England. A place called Durham in North East of England will be home for the coming years.

It was bright and sunny when I got here giving a sense of relief and pleasure. But soon the English weather came to its real characters. We are now being greeted by rain and chilled winds everyday. I remember now, a wise man (or woman may be, don't remember) told me that the first thing to buy in Durham is an umbrella. Well, it wasn't the first thing that I bought but yes now I have a disappointingly small umbrella which barely covers both of my shoulders. Nevertheless, protection is necessary however small or big it may be. So, yes after shelling out 10 pounds of my (father's) hard earned money I now cruise proudly in the rain. Heartbreak: Can't sing 'pyar hua ikrar hua' under it although it would be best for 'aaj rapat jaayen to humain na uthaiyo'.

Moving on. As I said after a couple of days it has been all cold and windy. But it I mention that to add insult to my injury, life for me has turned spice less for me. Most of my friends are aware of my amazing cooking skills. I think I will won't be exaggerating if I say I don't even know how to make tea (without teabags that is, Indian style). So, yes I loaded my bags at home with plenty of spices but right now they are just sitting (or rather sleeping) in my cupboard waiting for their turn. I doubt if that ever is going to come. So eggs and salami it is for me. Breakfast, lunch and dinner. I fear that I myself may turn into an egg (eggophobia).

Tuesday, 13 September 2011

फ़ॉर्मूला वन : किस्में है कितना दम

मेरे मित्र ने बताया हिंदुस्तान में, वो भी दिल्ली के पास नोयडा में कारों की रेस होने वाली है। हमने कहा, भाई इसमें कौन सी बड़ी बात हो गई जो इतना हंगामा मचाये हुए हो। हम तो जब भी घर से निकलते हैं तो हर रोज़, हर लाल बत्ती पर रेस देखते हैं। वो भी अकेले कार की नहीं, मोटर साइकिल, साइकिल, रिक्शा, ऑटो सब एक साथ रेस लगाते हैं। बत्ती हरी होने में ५ सकेंड बाकी होते हैं की चारो ओर ब्रूमssssss ब्रूमssssss आने लगती है। और जैसे ही बत्ती हरी हुई कि हर गाड़ी दूसरे से आगे निकालने की होड में लग जाती है।
टीवी में तो कुछ ऐसा ही होते देखा है रेस में। तो अब अलग से ये रेस आयोजित करने की क्या आवश्यकता पड़ी थी। खैर अब कर दिया है तो ठीक ही है। सुना है नाम उसका है 'फ़ॉर्मूला वन' ।

तो 'फ़ॉर्मूला वन' वाले भाइयों आपके इस आयोजन को हिट करने का नंबर वन फ़ॉर्मूला है मेरे पास। लोग बताते हैं की ये रेसों में सर्वोत्तम चालाक और सर्वोत्तम वाहन का भी फैसला होता है। तो भी जब रेस हिंदुस्तान में हो रही है तो हिन्दुस्तानी अंदाज़ में भी होनी चाहिए। तो आप लोग २-३ काम करें।
  1. रेस ट्रैक पर कुछ १००-१५० बड़े छोटे गड्ढे कर दें। ज़ाहिर सी बात है फैसला वाहन और वाहन चालक का होगा की उन्हें सड़क पर गाड़ी चलानी है या गड्ढों में। और हाँ ध्यान रखें की सब गड्ढों की गहराई सामान न हो।
  2. इन १००-१५० में से कुछ ५० में पानी भर दीजिये। इससे फायदा है की चालक को गड्ढे की गहराई का अंदाजा नहीं मिलेगा। टेस्ट थोडा मुश्किल तो होना चाहिए।
  3. अगला काम ये करना है की रेस ट्रैक पर कुछ रिक्शे, ठेले, और ऑटो छोड़ दें। ये अपनी स्पीड से चले और अपनी मर्ज़ी के हिसाब से सड़क के दायीं, बायीं या बीच में चलें। और रेस ड्राईवर इन रिक्शे, ठेले और ऑटो के हिसाब से चलें। और हाँ, कुछ ठेलों में सरिये लोड करना न भूलियेगा।
  4. अच्छा अब कुछ दर्शकों का चयन करने उनको एक्शन में इन्वाल्व करने के लिए। दर्शक हमेशा एक्शन में इन्वाल्व होने के लिए बेचैन रहते हैं। तो इन दर्शकों को आकस्मिक और अनियमित तरीके से रेस ट्रैक पार करने को कहें। रेस ड्राईवर इनसे बच के चलें।
  5. अब ये सबसे ज़रूरी स्टेप है। कुछ गाय, भैंस, गधे पकड़ के लायें और उनको रेस ट्रैक पर मन मौजी करने को छोड़ दें। रेस ड्राईवर इनसे बच के चलें, इनको बचाके चलें। और हाँ कभी पूरी सड़क रोक कर अगर बैठे हों तो अपनी गाड़ी (फरारी, बी ऍम डब्लू ) रोकें। इन जानवरों को रेस ट्रैक पर से हांकें और फिर आगे बढ़ें।
अगर इंडियन ग्रांड प्रिक्स आयोजित करना है फार्मूला वन वालों को तो मेरे इन फोर्मुलों का ध्यान रखें। तब देखें क्या झकास रेस होगी। हम भी देखेंगे कौन है हैमिल्टन, बट्टन, सुमाकर, और कौन हैं उनके बाप। ये है असली टेस्ट अच्छे ड्राईवर और अच्छे वाहन का। दावा है मेरा इस रेस में यादव जी टैक्सी वाले के लड़कों को बुला लो। फर्स्ट वही आयेंगे। और आयोजन आपका होगा सुपर हिट।

हो जाए एक चैलेंज। आ देखें ज़रा किस्में है कितना दम।

Thursday, 8 September 2011

बम ही क्यों, और भी तरीके हैं भाई

कल दिल्ली में एक और बम फटा। अब तक 12 लोग मारे जा चुके हैं और 50-60 घायल। हिन्दू, मुसलमान, सिख सभी।

आप कहेंगे कोई नयी बात बताइये साहब, ये तो हर रोज़ हो रहा है। अब अखबार में और टीवी पर ब्रेकिंग न्यूज़ आना चाहिए: 'आज हिंदुस्तान में कहीं बम नहीं फटा', 'कहीं कोई आतंकवादी हमला नहीं हुआ'। कुछ नेता कहते हैं ये १% का मामला है। सरकार ज़रा नींद से जागिये, ये मामला अब १००% का बनता जा रहा है। मन कि देश कि जनसँख्या बहुत ज्यादा है और बहुत तेज़ी से बढ़ रही है। पर ये कोई तरीका थोड़े है रोकथाम का, और भी तरीके हैं भाई। एक वक्त था जब एक नेता जी लोगों को पकड़ पकड़ के नसबंदी करवा देते थेपर जान बच जाती थी। आज दूसरे नेतालोग आतंकियों को खुला छोड़ दे रहे हैं। जाओ भाई ख़तम करो लोगों को। उन नेताओं के लिए एक सन्देश है मेरा: सरकार, मेरा न विवाह हुआ है, न बच्चे हैं। परन्तु में नसबंदी करवाने को तैयार हूँ। बस जान बक्श दो मेरी।

में दिल्ली के ही पास एक शहर रुपी 'गाँव' में रहता हूँ और आफिस भी यहीं है। मेरे दोस्त लोग कभी मिलने नहीं आना चाहते। कहते हैं यार ये कौन सी दुनिया में रहते हो। पहुचना भी गंगा नहाने के बराबर है। आज में उनपे हँसता हूँ। अरे मूर्खों, ये ऐसी जगह है कि आम आदमी न आ पाए, आतंकवादी और उनके बम किस खेत कि मूली हैं। कम से कम सेफ हूँ भाई।

बचना है तो इन नेताओं पर से भरोसा छोड़िये और मेरी तरह इस सेफ 'गाँव' में आके रहिये। वैसे भी, बम ही क्यों, और भी तरीके हैं भाई हर किसी के लिए।

Monday, 6 June 2011

पोटली बाबा की

सुना है आज कल 'बाबा' लोग बड़े हिट हैं। कुछ देश को हिला रहे हैं, कुछ सरकार को हिला रहे हैं और कुछ हिलाने वालों को हिला रहे हैं।
एक 'बाबा' रावणलीला मैदान में बैठ के देश को और सरकार को हिला दिए। उनको तो अब आप सब जानते हैं। पहले पूरे देश को योग का रोग लगाया। अब भ्रष्टाचार का रोग देश से मिटाने में लगे हुए हैं। अब शायद ये देश साधुवाद से ही सुधर पाए।
एक और 'बाबा' हैं। जो सत्तारूढ़ पार्टी के हैं। नाम है उनका विजय 'जिंग'। उनको उनकी पार्टी ने खुल्ला छोड़ रखा है। कोई भी मुद्दा उठे तो उनका काम है जनता को भटकाना और 'जिंग' (सनसनी) फैलाना। आज सुबह को रावणलीला मैदान वाले बाबा कि सराहना कर रहे थे, उनको धोखेबाज़, मक्कार इत्यादि कह कर। जी ये वही 'जिंग' बाबा हैं जिन्होंने ओसामा बिन लादिन की मृत्यु पर चिंतन करते हुए उसे 'ओसामा जी' कह कर संबोधित किया था। आप में से जो लोग मिस कर गए हों,वो गूगल देवता की अराधना कर के इस 'ओसामा जी' प्रकरण का ज्ञान ले सकते हैं।
जी ये बना महान हैं। इनकी बातों के कोई सर या पैर नहीं होते पर पार्टी का काम चुपके से कर जाते हैं।
एक तीसरे 'बाबा' हैं। जो सरकार का हिस्सा हैं। काफी बड़े नेता हैं, और उससे भी बड़े वकील (अंग्रेजी में लायर भी कहते हैं)। ये 'बाबा' खुद को खानों में खान (तीसमार खान) समझते हैं। जब भी टीवी पर आते हैं तो मंद मंद मुस्काते हैं, जैसे इशारे से कह रहे हों 'मैं तुमसे (और बाकि सबों) से कहीं ज्यादा समझदार हूँ, तभी तो मैं यहाँ हूँ और तुम वहां।' दलीलें ऐसी देते हैं जैसे कोर्ट में बैठे हों। शायद भूल जाते हैं की जनता की अदालत में उनकी दलीले नहीं चलती। ये जो पब्लिक है ये सब जानती है। कभी कभी ये हँसते भी हैं टीवी पर उस बच्चे की तरह जिसके पास लोलीपाप हो और बाकी बच्चों का मज़ाक उड़ा रहा हो वो। ये 'बाबा' कभी कभी गुंडागर्दी भी करते हैं। हक है उनका। नेता तो हैं ही और सरकार में भी है। अभी बेचारे योगी 'बाबा' और उनके साथ बेचारे शांति प्रिय गरीबों को भी पीट दिया, वो भी आधी रात को सोते हुए। और सुबह तन के बोले जो किया सही किया। बढ़िया है भाई। आपका राज है। जो मन में आए करिए।

तो जामाना तो 'बाबाओं' का ही है। हर बाबा के पास है एक 'पोटली'। किसी की पोटली में देश की समस्याओं का इलाज है, किसी की पोटली में देश को तोड़ने का नुस्खा। और किसी की पोटली में.......... जी नहीं देश के लिए कुछ नहीं है, बस है एक स्विस बैंक का अकाउंट।

आपको जो पसंद आए चल लीजिये उनके साथ। और कोई पसंद न आए तो मेरी तरह घर के एसी में बैठ के ज्ञान बांटिये। या फिर, एकला चलो रे ........

Tuesday, 12 April 2011

अइयो अन्ना

शुक्रवार, १८ अप्रैल।

गाँधी जी का कोई फालोअर है अन्ना हजारे। भूख हरताल पर बैठा है, इंडिया से करप्सन मिटाने के लिए। भारी मात्रा में हर जगह से लोग उसके सपोर्ट में जा रहे हैं।
हमारे आफिस के लोग भी उत्साहित हैं रैली में हिस्सा लेने के लिए। आफिस से हाफ डे ले के चले हमारे मित्र चिंता स्वामी। साथ में उनकी कार में सवार हो गए बिट्टू सिंह और ज्ञान चटर्जी। आफ्टर आल करप्सन का सवाल है। सबको चलना चाहिए।

'स्वामी दादा, जरा तेज चलाओ तुम। देर होता है।'

अरे ये क्या रेड लाइट।
'ओ स्वामी प्र, रेड लाइट जम्प करीं, साडी दिल्ली विच सब चलता है।'

चिंता ने अक्सिलेटर पर पैर दबाया। और कूद गए रेड लाइट।

'ओ रुक जा ताऊ रुक जा।" ट्रेफिक पुलिस
स्वामी: 'अइयो अन्ना, अमको जाने को, बहुत क्रिटिकल काम है। अन्ना स्ट्राइक पर है। अम उसको सपोर्ट करेगा। करप्सन का सवाल है।'

'ओ चौधरी, तू मन्ने अन्ना बोल रहा है, तो अब कौण से अन्ना के पास जाना है। रुक जा इधर।'
'ट्रेफिक दादा, तुम समझा नहीं। हम अन्ना हजारे का बात करता है।'

'रे तू अन्ना का बात करे या गन्ना का, मन्ने के। चालान भर 1200 का और जा।'

1200। हमारे तीनो मित्रों ने एक दुसरे की ओर देखा और आपस में बात की।

'ट्रेफिक प्रा, गरीब विच दया करो, कुछ अपना भला करो, कुछ हमारा भला करो।'
बिट्टू के इतना कहते ही स्वामी ने एक 100 का नोट ट्रेफिक पुलिस की जेब में डाल दिया।

ट्रेफिक पुलिस ने हमारे तीनो मित्रों को एक स्माइल दी और हमारे मित्रों ने पुलिस वाले को।
'पहली गलती है, तो छोरे दे रहा हूँ। अगली बार से ध्यान रखियो।' 'जाओ अब मिटाओ करप्सन।'

एक लम्बी चैन की सांस ले के हमारे मित्र गण आगे बढे, अन्ना हजारे का साथ देने........
करप्सन को दूर करने.....

Wednesday, 23 March 2011

उपरवाले का प्लान

एक बच्चा कभी नहीं जान पायेगा की उसके पिता कैसे थे, एक बीवी कभी नहीं जान पाएगी की उसके पति ने उसके लिए क्या क्या प्लान बना रखे थे। पिताजी से किये हुए सारे वादे नहीं निभा पायेगा वो, माँ की बनाई सब्जी की कभी बड़ाई नहीं करेगा वो।
क्या रह गया उसके पीछे, फेसबुक पे कुछ तस्वीरें, ऑरकुट पर एक प्रोफाइल। उस एल्बम में अब तस्वीरें नयी नहीं आएँगी, वो प्रोफाइल अब अपडेट नहीं होगी। अब नयी ट्वीट्स नहीं करेगा वो। एक पेज उसने हमारे मन में भी लिख डाला है। अपडेट करते रहेंगे, उसके विचारों से।
कल लोग सोच रहे थे की आखिर ये हादसा हुआ कैसे। अलग अलग थ्योरियाँ सामने आ रही थीं। मेरी बस एक ही प्रार्थना थी और उम्मीद भी की हमें सच का पता चले। सच सिर्फ वो ही बता सकता था। मैं चाहता था की वो आये और परे वाक्ये का ब्यौरा दे। पर चाहते तो हम सब बहुत कुछ हैं........
उपरवाले की अपनी चाहत होती है.... उसका अपना प्लान है.... उसका अपना डिजाईन है......

काश जिंदगी भी एकता कपूर के सीरियलों की तरह होती। पर.......