Friday, 21 December 2012

टीवी पर ठुमके लगाने वाली......नेता कैसे बन गाई

आज मेरे लिए नेता शब्द का अर्थ ढूंढना अति आवश्यक हो गया। आगे बताऊंगा क्यों। खैर एक वेबसाइट पर नेता का अर्थ अंग्रेजी में देखा तो ये शब्द निकल कर आए
जिन भाइयों और बहनों को अंग्रेजी का अच्छा ज्ञान है, वो अंदाजा लगा सकते हैं कि कितने उत्तम शब्दों का प्रयोग किया गया है 'नेता' के लिए। खैर देश के नेताओं कि जो भी स्थिति हो, मैं 10 नंबर और 12 नंबर अर्थ से जोड़ता हूँ नेताओं को। वो नयी चीज़ों की शुरुआत करते हैं। अच्छी चीज़ों की शुरुआत। और समाज का नेतृत्व करते हैं, उन अच्छी चीज़ों कि दिशा में। 

मेरे हिसाब से नेता समाज का आईना है और समाज नेता का। खैर ये मेरी समझ है। 

नेता का अर्थ इसलिए ढूंढ रहा था क्योंकि आज कुछ ऐसा देखा और सुना जो अनसुना सा लगा। टीवी पर चर्चा देखने का बड़ा शौक़ीन हूँ। उससे बढ़िया मनोरंजन और कहीं नहीं। ऐसी ही एक चर्चा में मौजूद थे दो राष्ट्रीय पार्टियों के नेता। एक पुरुष और एक महिला। जैसा की स्वाभाविक है राजनितिक चर्चा में, आरोपों प्रत्यारोपों का दौड़ चल रहा था। महिला नेता ने पुरुष नेता पर कुछ आरॊप लगाए। जवाब में पुरुष जी, जो देश कि सबसे पुरानी पार्टी का नेतृत्वा कर रहे थे, बोले 

"कल तक टेलीविज़न पर ठुमके लगा रही थीं और आज नेता बन कर घूम रही हैं" 
(उन्होंने 'थीं' कहा, उनके लहज़े में झलकती इज्ज़त पर ध्यान दें)

ये महिला नेता पहले टीवी की बड़ी कलाकारा रहीं हैं, हम सब की प्रिय बहू रहीं हैं। महिला सांसद ने इसका विरोध किया और कहा की पुरुष सांसद छिछोरी बातें कर रहे हैं, जैसे सड़क पर छेड़छाड़ करने वाले करते हैं, जो आगे चलके रेपिस्ट बनते हैं। रेपिस्ट वाली बात छोड़ कर बाकी कथन से मैं सहमत हूँ। पुरुष सांसद का जवाब 

"शट अप!! अरे क्या बात कर रही हो? क्या करैक्टर है आपका?"
('आपका' नोट करे दी गई इज्ज़त को)

ये नेता हैं हमारे। समाज का आइना। महिला की इज्ज़त इस प्रकार करते हैं। और यही इनसे समाज सीखता है। और इसी राह पर ये समाज का नेतृत्व करते हैं। इसी दिशा में ले चले हैं ये समाज को। शायद समाज ऐसा है इसलिए नेता ऐसे हैं। जो भी हो पुरुष जी के इन छोटे वक्तव्यों ने हमें आइना तो दिखाया ही है। आखिर नेता समाज का आइना है। 

पर शायद 10 और 12 नेता के सही अर्थ नहीं हैं। शायद बाकी के कुछ अंग्रेजी शब्द जो लिस्ट में हैं वही नेता के अर्थ हैं। आप खुद ही चुन लें आपको जो अर्थ बढ़िया लगे। 

मैंने पहले भी महिलाओं की इज्ज़त को समाज में स्थापित करने कि बात कही थी। ये इस प्रकार न हो पायेगा। ये नेताओं के पीछे चलने से न हो पायेगा। ये हमारे और आपके नेतृत्व से ही हो पाएगा। अगर ऐसे नेताओं के साथ चलते रहे तो सही में दोषी हम सब होंगे।  

_________________________________
टीवी चैनल ने पुरुष जी के कथनों का विरोध किया। इसके लिए उनको धन्यवाद और बधाईयाँ। 

No comments:

Post a Comment